योग प्राचीन भारतीय परंपरा एवं संस्कृति की अमूल्य देन: पवन मल्होत्रा

0
54
योग प्राचीन भारतीय परंपरा एवं संस्कृति की अमूल्य देन: पवन मल्होत्रा
योग प्राचीन भारतीय परंपरा एवं संस्कृति की अमूल्य देन: पवन मल्होत्रा

Jalandhar(S.K Verma):8वां अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस जहां देशभर में कश्मीर से लेकर कन्याकुमारी तक जोश के साथ मनाया जा रहा है, वहीं विदेश में भी इसे लेकर काफी उत्साह देखा जा रहा है। इसी के अंतर्गत जालंधर में भी सैंकड़ों की संख्या में लोग योगाभ्यास करने पहुंचे, जहां मानव सेवा नशा मुक्ति संगठन एवं डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी अस्पताल के प्रधान पवन मल्होत्रा ने भी शिरकत की। इस दौरान उन्होंने जीवन में योग के महत्त्व के बारे में जागरूक किया और बताया कि योग प्राचीन भारतीय परंपरा एवं संस्कृति की अमूल्य देन है, योग अभ्यास से शरीर, मन, विचार एवं कर्म आत्मसंयम एवं पूर्णता की एकात्मकता और मानव एवं प्रकृति के बीच सामंजस्य प्रदान करता है। यह स्वास्थ्य एवं कल्याण का दृष्टिकोण है। योग केवल व्यायाम नहीं है, बल्कि स्वयं के साथ, विश्व और प्रकृति के साथ एकत्व खोजने का भाव है। वहीं भाजपा के जिला सचिव (जालंधर) भुवन मल्होत्रा ने भी योगाभ्यास के उपरांत कहा कि बुजुर्ग से लेकर युवा पीढ़ी सभी योग के जरिए खुद को शारीरिक, मानसिक और आध्यात्मिक रूप से स्वस्थ रखते हैं। योग के लाभों को देखते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने साल 2014 में संयुक्त राष्ट्र से इसे अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के रूप में मनाने की अपील की और साल 2015 में यूएन ने 21 जून को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस घोषित कर दिया। इस मोके मौजूद महानगर सह संघचालक विजय गुलाटी, राष्ट्रीय स्वयमसेवक संघ के वरिष्ठ कार्यकर्ता व मानव संस्कार नशामुक्त संघठन के प्रधान पवन मल्होत्रा , राजेंद्र शंगारी ,ज़ूबिन शिंगारी, पंकज , हरीश महिंद्रू , किशन पूरी ओर भाजपा युवा मोर्चा के सचिव भुवन मल्होत्रा उपस्थित रहे ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here