विजीलैंस ब्यूरो ने आई. ए. एस. अधिकारी को रिश्वत के तौर पर 1 प्रतिशत कमीशन की माँग करने के दोष के तहत किया गिरफ्तार

0
49
विजीलैंस ब्यूरो ने आई. ए. एस. अधिकारी को रिश्वत के तौर पर 1 प्रतिशत कमीशन की माँग करने के दोष के तहत किया गिरफ्तार
विजीलैंस ब्यूरो ने आई. ए. एस. अधिकारी को रिश्वत के तौर पर 1 प्रतिशत कमीशन की माँग करने के दोष के तहत किया गिरफ्तार

Chandigarh(Davinder Garg):

मुख्यमंत्री भगवंत मान के नेतृत्व वाली पंजाब सरकार की तरफ से भ्रष्टाचार के विरुद्ध ज़ीरो-टौलरैंस अपनाते हुए पंजाब विजीलैंस ब्यूरो ने आई. ए. एस. अधिकारी संजय पोपली को नवांशहर में सिवरेज पाईप लाईन डालने के टैंडरों को मंज़ूरी देने के लिए कथित तौर पर रिश्वत के तौर पर 1फीसदी कमीशन की माँग करने के दोष में गिरफ्तार किया है। उक्त अधिकारी के साथी, जिसकी पहचान सन्दीप वत्स के तौर पर हुई, को भी जालंधर से काबू किया गया है।

हरियाणा के करनाल के शिकायतकर्ता संजय कुमार, जोकि दिखादला कोआपरेटिव सोसायटी लिमिटेड नाम की एक फर्म के साथ एक सरकारी ठेकेदार है, ने भ्रष्टाचार विरोधी हेल्पलाइन के द्वारा दर्ज करवाई शिकायत में कहा कि संजय पोपली, आई. ए. एस., जब मुख्य कार्यकारी अधिकारी ( सी. ई. ओ.) पंजाब जल सप्लाई और सिवरेज बोर्ड के तौर पर तैनात थे, ने अपने सहायक सचिव सन्दीप वत्स की मिलीभुगत से 7.30 करोड़ रुपए के टैंडर क्लियर करने के लिए रिश्वत की माँग की थी।

शिकायतकर्ता ने बताया कि 12 जनवरी, 2022 वाले दिन सन्दीप के वटसऐप से उसको कॉल आई, जिसमें संजय पोपली की तरफ़ से टैंडर अलाटमैंट के लिए 7 लाख रुपए ( 7 करोड़ रुपए के प्रोजैक्ट का 1फीसदी) की रिश्वत की माँग की गई थी। उसने डर कर अपने पी. एन. बी. खाते में से 3. 5 लाख रुपए निकलवा कर सैक्टर-20, चंडीगढ़ में एक कार में सन्दीप वत्स को दे दिए। उसने बताया कि रकम प्राप्त करने के बाद सन्दीप वत्स ने संजय पोपली को उसके वटसऐप नंबर पर कॉल करके पुष्टि भी की और अपने लिए भी 5000 रुपए लिए थे।

हालाँकि शिकायतकर्ता ने संजय पोपली के नाम पर सन्दीप वत्स की तरफ से बार-बार माँगे जा रहे बाकाया 3. 5 लाख रुपए देने से इन्कार कर दिया था। शिकायतकर्ता ने सारी बातचीत की वीडियो रिकार्डिंग भी बना कर विजीलैंस ब्यूरो को सौंप दी है।

विजीलैंस ब्यूरो के प्रवक्ता ने बताया कि संजय कुमार के बयानों के साथ-साथ उसकी तरफ से पेश किये वीडियो सबूतों के आधार पर आई. ए. एस अधिकारी संजय पोपली और सन्दीप वत्स के विरुद्ध टैंडर अलाट करने के बदले 1 प्रतिशत रिश्वत मांगने और 3.5 लाख रुपए प्राप्त करने के दोष के तहत केस दर्ज किया गया है।

जि़क्रयोग्य है कि मुख्यमंत्री के तौर पर पद संभालने के बाद भगवंत मान ने भ्रष्टाचार विरोधी हेल्पलाइन नंबर 9501200200 की शुुरूआत की और पंजाब के लोगों को भ्रष्टाचार से सम्बन्धित शिकायतें वटसऐप के द्वारा सांझा करने की अपील की थी जिससे राज्य को भ्रष्टाचार मुक्त बनाया जा सके। इस हेल्पलाइन की शुरुआत के बाद राज्य के स्वास्थ्य मंत्री विजय सिंगला, पूर्व कांग्रेसी मंत्री साधु सिंह धर्मसोत, पूर्व कांग्रेसी विधायक जोगिन्द्र पाल समेत कई नामी लोगों को भ्रष्टाचार के दोषों के तहत गिरफ्तार किया गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here