कभी पैरिस के नाम से जाने जाना वाला कपूरथला प्रशासन की ढिल-मुल नीति के कारण बन रहा कूड़े का ढेर

0
44
कभी पैरिस के नाम से जाने जाना वाला कपूरथला प्रशासन की ढिल-मुल नीति के कारण बन रहा कूड़े का ढेर
कभी पैरिस के नाम से जाने जाना वाला कपूरथला प्रशासन की ढिल-मुल नीति के कारण बन रहा कूड़े का ढेर

Kapurthala(Gaurav Maria):राजा-महाराजाओं का शहर कपूरथला कभी पैरिस के नाम से जाना-जाता था,लेकिन इस समय प्रशासन की ढिल-मुल नीति के कारण कूड़े का ढेर बन कर रहा गया।जहां नजर दौड़ाई जाए, वहां कूड़े के ढेर ही दिखाई पड़ते हैं।विरासती शहर में सफाई-व्यवस्था बेहाल है,जगह-जगह कूड़े के ढेर लगे हैं।जिसे देखकर ऐसा लगता है कि नगर निगम के अधिकारी सफाई को लेकर गंभीर नहीं हैं।कूड़े के ढेरों से निकलने वाली बदबू,मच्छर व मक्खियों से बीमारी फैलने का खतरा बना हुआ है।गंदगी की वजह से आसपास से गुजरने वाले लोग भी प्रभावित हो रहे है।शहर में कूड़े के ढेर दिन-प्रतिदिन बढ़ते जा रहे हैं,जिस कारण लोगों में बीमारियां फैलने का खतरा मंडरा रहा है।कूड़े के ढेरों के पास से लोगों का निकलना किसी खतरे से कम नहीं है,क्योंकि लावारिस पशु कूड़े के ढेरों के आसपास मंडराते रहते हैं और कूड़े के ढेरों से निकलने वाली गंदगी बदबू के कारण लोगों को सांस की परेशानी भी झेलनी पड़ रही है।इस के साथ ही हेरिटेज शहर के कुछ अंजान लोगो द्वारा जाने अनजाने में कपूरथला शहर के ही लोगो की धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचने का मामला भी सामने आया है।गौरतलब है कि कपूरथला शहर के बीचो बीच लक्ष्मी नगर के नज़दीक शमशान भूमी रोड पर श्मशान भूमी के इलावा बहुत से ऐतहासिक धार्मिक स्थल मौजूद है,जिन में श्री गुरुद्वारा साहिब धर्मशाला लक्ष्मी नगर,श्री लक्ष्मी नारायण मंदिर,ब्रह्म कुंड मंदिर,शनिदेव मंदिर तथा माता बगलामुखी मंदिर प्रमुख है।इन धार्मिक स्थानों पर आस्था होने के कारण अक्सर श्रद्धालु दूर दूर से अपना शीश झुकने आते है,लेकिन इसी रोड पर म्युनिसिपल कारपोरेशन कपूरथला के ही गेट पर गंदगी ओर कूड़े के ढेर देखने को मिलते है,हालांकि पूरे शहर की सफाई की ज़िमेदारी म्युनिसिपलउन कारपोरेशन कपूरथला की है,लेकिन उन्ही के दफ्तर के गेट पर कूड़े के ढेर लगे रहना म्युनिसिपल कारपोरेशन कपूरथला की कार्य प्रणाली पर सवालिया निशान खड़े करते है।इसके इलावा ये कूड़े और गंदगी के ढेर जो अक्सर ही बीच सड़क पर फैला हुआ उपरोक्त धार्मिक स्थानो के नजदीक देखने को मिलता हैं,जो कि ना केवल कपूरथला शहर के लोगो की धार्मिक आस्था को ठेस पहुंचता है,बल्कि कपूरथला के बाहर से आने वाले श्रद्धालुओं की धार्मिक भावनाओं से भी खिलवाड़ करता है।उल्लेखनीय है कि कुछ धार्मिक स्थल इस कूड़े के ढेर से केवल 20 से 30 मीटर ही दूर होते है।इसके इलावा जिस जगह पर ये कूड़े के ढेर लगाए जाते है उसी जगह पर पीपल और बोहड़ के बहुत पुराने पेड़ मौजूद है,तथा हिन्दू धर्म मे पीपल ओर बोहड़ को पूजनीय माना गया है,तथा उसी जगह पर कूड़ा फैंकने तथा कूड़े के ढेर लगने के कारण लोगो की धार्मिक भावनाएं आहत हो रही है एवं लोगों में आक्रोश पाया जा रहा है।इस मामले की गंभीरता को देखते हुए शालीमार एवेन्यू न्यू वेलफेयर कमेटी कपूरथला का एक शिष्टमंडल एडवोकेट चंदन पूरी की प्रधानगी में ई.ओ (एग्जीक्यूटिव ऑफिसर)म्युनिसिपल कारपोरेशन कपूरथला को मिला तथा उक्त सारा मामला एक लिखित शिकायत के रूप में उनके ध्यान में लाया गया।इस शिष्टमंडल के मुख्य सदस्य सरदारी लाल शर्मा , संजय सूद,चंदन पुरी ने संयुक्त रूप से इस मामले पर जल्द से जल्द कारवाई करते हुए उस जगह पर कूड़ा फैंकने पर प्रतिबंध लगाने की जिला प्रशासन से पुर ज़ोर मांग की।मामले की गंभीरता को देखते हुए म्युनिसिपल कारपोरेशन कपूरथला के एग्जीक्यूटिव ऑफिसर ब्रिज मोहन ने उक्त शिकायत की जांच करने के लिए,म्युनिसिपल कारपोरेशन कपूरथला के अधिकारी को हुकम जारी किये हैं।उन के इलावा इस डेपुटेशन में अर्जुन सिंह,अंकुश शर्मा,अंकुर तथा आकाश दीप कुमार हाज़िर थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here