शहीद बहार का जीवन हिन्दू-सिख ऐकता की मिसाल व हम सभी का मार्ग-दर्शक : सुरेश महाजन

0
208
शहीद बहार का जीवन हिन्दू-सिख ऐकता की मिसाल व हम सभी का मार्ग-दर्शक : सुरेश महाजन
शहीद बहार का जीवन हिन्दू-सिख ऐकता की मिसाल व हम सभी का मार्ग-दर्शक : सुरेश महाजन

Amritsar(Rajeev Sharma):

शहीद तरसेम सिंह बहार तत्कालीन प्रदेश अध्यक्ष एवं अखिल भारतीय मंत्री भारतीय जनता युवा मोर्चा को उनके बलिदान दिवस के उपलक्ष्य में जिला भाजपा मुख्यालय शहीद हरबंस लाल खन्ना स्मारक में आयोजित श्रद्धांजली कार्यक्रम के दौरान भाजपा कार्यकर्ताओं ने उन्हें अपने-अपने श्रद्धासुमन अर्पित किए। शहीद तरसें सिंह बहार समिति के अध्यक्ष नरेंदर कुमार कोहली (रिटायर्ड ई.टी.ओ.) की अध्यक्षता में आयोजित कार्यक्रम के दौरान जिला भाजपा अध्यक्ष सुरेश महाजन विशेष रूप से उपस्थित हुए। इस अवसर पर समिति के पूर्व स्वास्थ्य मंत्री डॉ. बलदेव राज चावला, महामंत्री रमन कुमार शर्मा, शहीद तरसेम सिंह बहार की बहन रविंदर कौर, जिला महामंत्री राजेश कंधारी, विनोद नंदा, संदीप कुमार, सूरज जैसवाल ने भी शहीद बहार को अपने श्रद्धासुमन अर्पित किए।

सुरेश महाजन ने इस अवसर पर उपस्थित कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहाकि तरसेम सिंह बहार ने देश की एकता व अखंडता के लिए अपना बलिदान दिया था। पंजाब में जब आंतकवाद का काला दौर चरम सीमा पर था, तब शहीद तरसेम सिंह बहार अपनी जान की परवाह किए बिना देश की जनता की आवाज बने और आंतकवादियों के खिलाफ आवाज बुलंद की। उन्होंने अपने प्राणों की आहुति देकर आतंकवादियों के षड़यंत्र को विफल किया। उनकी शहादत व उनकी शिक्षा आज भी हम सब का मार्ग दर्शन करती है। उन्होंने कहाकि भाजपा ने अपना एक निर्भीक व साहसी कार्यकर्ता खोया, लेकिन देश की ऐकता व अखंडता के लिए उन्होंने जो आहुति दी, उसके चलते ही पंजाब में स्थाई शांति कायम हो सकी है।

नरेंदर कोहली ने कहाकि शहीद तरसेम सिंह बहार युवा कार्यकर्ताओं के प्रेरणास्रोत थे। आतंकवादियों ने उनको शहीद किया, लेकिन उनकी विचारधारा ने भाजपा को जन-भावना की सेवा करने का महान अवसर दिया। उनकी शहादत ने राजनीति की आवाज को एक नया आयाम दिया। जिसकी बदौलत पंजाब में लोकतंत्र की पुन: स्थापना हुई। उन्होंने सभी से बहार के दर्शाए मार्ग पर चलने का आह्वान किया।

ज्ञात रहे कि शहीद तरसेम सिंह बहार को आंतकवादियों ने 5 जनवरी 1989 को सुल्तानविंड रोड इलाके में गोलियां मार कर शाहीद कर दिया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here