प्रधानमंत्री मोदी के ‘स्वच्छ भारत मिशन’ से स्वच्छता बनी देश की नई पहचान: डॉ. सुभाष शर्मा

0
83
प्रधानमंत्री मोदी के ‘स्वच्छ भारत मिशन’ से स्वच्छता बनी देश की नई पहचान: डॉ. सुभाष शर्मा
प्रधानमंत्री मोदी के ‘स्वच्छ भारत मिशन’ से स्वच्छता बनी देश की नई पहचान: डॉ. सुभाष शर्मा

Chandigarh(Shubham Garg):

प्रदेश भाजपा महासचिव डॉ. सुभाष शर्मा ने चंड़ीगढ़ भाजपा मुख्यालय में आयोजित पत्रकारवार्ता में कहा कि प्रधानमंत्री नरेंदर मोदी द्वारा महात्मा गाँधी के जन्मदिन पर खुद हाथों में झाड़ू लेकर 2 अक्टूबर 2014 को शुरू किए गए ‘स्वच्छ भारत मिशन’ से विश्व में भारत की नई पहचान बन चुकी है। प्रधानमंत्री नरेंदर मोदी के नेतृत्व में केंद्र की भाजपा सरकार ने इस मिशन के तहत भारत में सभी गांवों, ग्राम पंचायतों, राज्यों, केंद्र शासित प्रदेशों और जिलों ने ग्रामीण भारत में 100 मिलियन से अधिक शौचालयों का निर्माण करके ‘खुले में शौच से मुक्त’ (ओडीएफ) लक्ष्य को पूरा किया। इतना ही नहीं ठोस एवं तरल कचरा प्रबंधन की सुविधाएं एवं सुरक्षित प्रबंधन देकर इस मिशन को अगले चरण II अर्थात् ओडीएफ-प्लस की ओर अग्रसर किया। डब्ल्यूएचओ के मुताबिक 2014 में स्वच्छ भारत मिशन शुरू होने से पहले स्वच्छता नहीं होने से हर साल डायरिया के 19.9 करोड़ मामले सामने आते थे।

                डॉ. सुभाष शर्मा ने कहा कि स्वच्छता आज हमारे देश का राष्ट्रीय चरित्र बन गई है। गंदगी और कचरे से मुक्त भारत के लक्ष्य की सिद्धि के लिए आज हर देशवासी केंद्र की भाजपा सरकारकी तरह कृत संकल्प है। केंद्र की मोदी सरकार ने देश में 11.5 करोड़ से ज्यादा घरों में शौचालय बना कर जनता का गरिमापूर्ण जीवन सुनिश्चित किया है। अब तक 58,000 हजार से ज्यादा गाँव एवं 3300 से ज्यादा शहर हुए ओडीएफ प्लस हो चुके हैं। गाँवों और शहरों में 8.2 लाख से ज्यादा सामुदायिक स्वच्छता परिसरों के निर्माण से हर जगह शौचालय की उपलब्धता सुनिश्चित की गई है। स्वच्छता अभियान के तहत शहरी क्षेत्रों में कचरे के निष्पादन में चार गुणा वृद्धि जो कि 2013-14 में प्रतिदिन 25,000 टन थी से बढ़कर 2021-22 में प्रतिदिन एक लाख टन कचरे का निष्पादन किया जा रहा है। इस मिशन के तहत 2.5 लाख कचरा संग्रहण गाड़ियों द्वारा घर हजार से ज्यादा शहरों वाड़ों में डोर-स्टेप कचरा संग्रहण किया जा रहा है।

                डॉ. शर्मा ने कहा कि केंद्र की मोदी सरकार द्वारा ‘गोवरधन योजना’ के अंतर्गत देश के 232 जिलों में 350 से ज्यादा बायोगैस प्लांट बनाकर गोबर का बेहतर निष्पादन और उपयोग कचरे से कंचन का उत्कृष्ट उदाहरण पेश किया है। ‘सुजलम अभियान’ के तहत वाटर प्रबंधन के लिए 10 लाख सामुदायिक और घरेलू सोक-पिट का निर्माण, 14 लाख गाँवों में बेहतर जल प्रबंधन, सिंगल यूज प्लास्टिक के निष्पादन और पुन: उपयोग के लिए देशव्यापी जन-अभियान, ऐतिहासिक और सांस्कृतिक धरोहरों के संरक्षण और स्वच्छता पर विशेष जोर देकर 39 धरोहरों के स्वच्छता और रख-रखाव मानकों में सुधार किया है। स्वच्छ भारत मिशन (ग्रामीण) के लिए बजट 2022-23 में 7,192 करोड़ रुपये आवंटित किए गए हैं। स्वच्छ भारत मिशन (शहरी) 2.0 पर 2021-26 के दौरान कुल 1,41,678 करोड़ रुपये का आवंटन किया गया।

डॉ. सुभाष शर्मा ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंदर मोदी ने देश में चलाए गए सर्वेक्षणों के माध्यम से निकायों के बीच स्वस्थ प्रतिस्पर्धा को बढ़ावा और स्वच्छता के प्रति जन-जागरुकता और जनभागीदारी सुनिश्चित कर देश में 12 करोड़ लोगों से फीडबैक प्राप्त कर देश को स्वच्छ बनाने में बहुत बड़ा रोल अदा किया है। जिसकी आज विश्व के अग्रणी देशों सहित विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के स्वच्छ भारत अभियान की तारीफ की है।

डॉ. शर्मा ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को स्वच्छ भारत अभियान के लिए बिल और मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन की ओर से ‘ग्लोबल गोलकीपर अवार्ड’ से सम्मानित किया गया। यह पुरस्कार भारत में पचास करोड़ लोगों को स्वच्छ, स्वस्थ और सुरक्षित वातावरण उपलब्ध कराने के लिए प्रधानमंत्री मोदी के प्रति आभार का प्रतीक है। प्रधानमंत्री मोदी ने पुरस्कार को 130 करोड़ भारतीयों को समर्पित किया। प्रधानमंत्री नरेंदर मोदी के नेतृत्व में ‘स्वच्छ भारत अभियान’ का हिस्सा बना कर आज हर देशवासी को गर्व महसूस होता है। इसमें मिशन भी है जान भी है, एक देश की महत्वाकांक्षा भी है और मातृभूमि के लिए अप्रतिम प्रेम भी है। इस अवसर पर प्रदेश मीडिया संयोजक जैसमीन संधेवालिया भी उपस्थित थीं

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here