फ्लाईओवर पर रुका प्रधानमंत्री का काफिला पाकिस्तानी तोपखाने व स्नाइपरज की रेंज में था: गुप्ता

0
171
फ्लाईओवर पर रुका प्रधानमंत्री का काफिला पाकिस्तानी तोपखाने व स्नाइपरज की रेंज में था: गुप्ता
फ्लाईओवर पर रुका प्रधानमंत्री का काफिला पाकिस्तानी तोपखाने व स्नाइपरज की रेंज में था: गुप्ता

Jalandhar(S.K Verma):

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की सुरक्षा में 5 जनवरी को जानबूझ कर की गई घोर लापरवाही दरअसल प्रधानमंत्री नरेंदर मोदी की सुरक्षा में खूनी खिलवाड़ और साज़िश थी और इस के तार राजनैतिक रूप में सीधे कांग्रेस के शीर्ष नेतृत्व से जाकर जुड़ते है। भारतीय जनता पार्टी इस बात को शुरू से कहती आई है और इस बात का पुख्ता प्रमाण अब सारे मीडिया ने भी दे दिया है। इन बातों का खुलासा भारतीय जनता पार्टी पंजाब के प्रदेश महासचिव जीवन गुप्ता ने जालंधर में आयोजित पत्रकार-वार्ता के दौरान बातचीत करते किया। उन्होंने कहा कि केन्द्रीय गृह-मंत्रालय व भाजपा का राष्ट्रीय व प्रदेश नेतृत्व पहले दिन से ही कह रहे हैं कि पुलिस को पंजाब भर में प्रदर्शनकारियों पर कार्रवाई न करने के निर्देश कांग्रेस हाईकमान के कहने पर चन्नी सरकार द्वारा दिए गए थे।


जीवन गुप्ता ने कहा कि एक प्रतिष्ठित टीवी चैनल की इनवेस्टिगेटिव टीम ने स्टिंग ऑपरेशन के माध्यम से देश के प्रधानमंत्री मोदी की सुरक्षा में हुई घोर लापरवाही पर बड़ा खुलासा किया है। इस खिलवाड़ के दौरान प्रधानमंत्री का काफिला गुजरने वाली सड़क पर प्रदर्शनकारी और रेडिकल ग्रुप्स कैसे पहुंचे और अपनी मनमानी करते रहे और पुलिस मूकदर्शक बन कर तमाशा देखती रही। इस स्टिंग ऑपरेशन में बताया गया है कि प्रधानमंत्री की सुरक्षा के साथ हुई चूक इरादतन चूक थी। कोई संयोग नहीं बल्कि एक खूनी साज़िशन प्रयोग था, कुदरती नहीं बल्कि सुनियोजित षड्यंत्र था। इस स्टिंग ऑपरेशन में स्थानीय एस एच ओ और डीएसपी ( सीआईडी )को स्पष्ट सुना जा सकता है। दोनों का कहना है कि उन्हें प्रधानमंत्री के रूट पर होने वाले रुकावट को ले कर पहले से ही जानकारी थी और इस संबंधी दोनों ने ही अपने आला अधिकारियों को समय रहते सूचित किया था। लेकिन इसके बावजूद भी किसी ने कोई ऐक्शन नहीं लिया। यह दर्शाता है कि प्रधानमंत्री की सुरक्षा चूक में सुनियोजित व मिलीभगत थी।


जीवन गुप्ता ने कहा कि कि खालिस्तान गुट भी प्रधामंत्री मोदी की रैली के विरुद्ध सक्रिय थे। ‘सिख फॉर जस्टिस’ के गुरपतवंत सिंह पन्नू ने तो प्रधानमंत्री को जूता दिखाने वाले के लिए एक लाख डॉलर के इनाम की भी घोषणा की थी। इतना होने के बावजूद प्रधानमंत्री के रास्ते में आंदोलनकारियों को आने सुनियोजित तरीके से आने दिया गया। जिस फ्लाईओवर पर प्रधानमंत्री का काफिला फंसा था, वह पाकिस्तान सीमा से महज 10 किमी दूर था और पाकिस्तानी तोपखाने व स्नाइपरज की रेंज में थे। सीमा से इतनी कम दूरी में सीमा पार से ड्रोन से विस्फोटकों आदि के गिराए जाने के कई मामले सामने आये हैं।जीवन गुप्ता ने कहा कि मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी, पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू व कांग्रेसी नेता हरीश रावत सहित अन्य कांग्रेसी नेता इस सारे घटनाक्रम पर अपनी घिनौनी साजिश व सरकार की नाकामीयाँ छुपाने के लिए झूठ पर झूठ बोलते आये हैं, लेकिन अब चैनल द्वारा किए गए स्टिंग ऑपरेशन में कांग्रेसियों की काली करतूतों का पर्दाफाश हो गया है, कि यह लोग अपने फ़ायदे के लिए देश की सुरक्षा का सौदा ही नहीं, बल्कि किसी भी हद तक जा कर किसी की जान ले सकते हैं? जीवन गुप्ता ने पंजाब की जनता को इन कांग्रेसियों से सचेत होने का आह्वान किया और इस बार चुनाव में पंजाब तथा प्रदेश की जनता के हित्त में सोच-समझ कर अपने मताधिकार का प्रयोग करने की अपील की।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here