डिप्टी कमिश्नर की तरफ से जिले में नाजायज शराब के कारोबार और तस्करी ख़िलाफ़ सख़्त कार्यवाही के आदेश

0
149
डिप्टी कमिश्नर की तरफ से जिले में नाजायज शराब के कारोबार और तस्करी ख़िलाफ़ सख़्त कार्यवाही के आदेश
डिप्टी कमिश्नर की तरफ से जिले में नाजायज शराब के कारोबार और तस्करी ख़िलाफ़ सख़्त कार्यवाही के आदेश

Jalandhar(S.K Verma):

ज़िले में आगामी विधान सभा चुनाव के मद्देनज़र डिप्टी कमिश्नर घनश्याम थोरी ने आज पुलिस और आबकारी विभाग के आधिकारियों को नाजायज शराब के कारोबार और तस्करी ख़िलाफ़ अपनी मुहिम को और तेज करने के आदेश दिए जिससे भारतीय चुनाव आयोग के निर्देशों की पालना की जा सके। राज्य स्तरीय वर्चुअल समीक्षा बैठक में भाग लेते डिप्टी कमिश्नर ने कहा कि ज़िले में सभी डिस्टिलरियें, गोदामों, वेयर हाऊसिज, कोल्ड स्टोर आदि 24 घंटे सी.सी.टी.वी. की निगरानी में रखे जाएँ जिससे बिना उचित लाइसेंस के कोई भी शराब बाहर न जा सके। उन्होंने शराब के छापे, ढाबों और अन्य स्थानों की 24 घंटे निगरानी करने की ज़रूरत पर ज़ोर दिया, जिन को अन -अधिकारत शराब के भंडारिन के लिए संभावी स्टोरेज प्वाइंट के तौर पर इस्तेमाल किया जा सकता है। उन्होंने यह भी कहा कि जिले में नाजायज शराब के कारोबार और शराब की तस्करी पर रोक डालने के लिए आने वाले दिनों में विशेष चैकिंग की जाये। उन्होंने कहा कि चौकसी बढ़ाने के कारण पिछले दिसंबर महीनो में कुल 3.62 लाख लीटर लाहन ज़ब्त की गई जबकि पिछले सात महीनों में 7.12 लाख लीटर निर्यात करके नष्ट की गई। इसी तरह पिछले साल एक बोटलिंग प्लांट के मामलो में 16 मुलजिमों ख़िलाफ़ एफ.आई.आर. दर्ज की गई थी। इस सम्बन्धित और ज्यादा जानकारी देते हुए डिप्टी कमिश्नर ने बताया कि जालंधर और लुधियाना जिले के आधिकारियों की तरफ से एक सांझे आप्रेशन दौरान सतलुज दरिया के इलाको में छापेमारी करके एक दिन में 2.10 लाख लीटर लाहन निर्यात की गई। उन्होंने जालंधर में आज़ाद, निष्पक्ष और पारदर्शी मतदान करवाने की दृढ़ वचनबद्धता को दोहराते हुए कहा कि ऐसीं ग़ैर -कानूनी कार्यवाहियों के साथ सख़्ती के साथ निपटा जायेगा और दोषियों के ख़िलाफ़ सख़्त कार्यवाही की जायेगी। डिप्टी कमिश्नर ने कहा कि इस उद्देश्य के लिए तहसील और सब डिविज़न स्तर पर आबकारी विभाग के साथ सिविल और पुलिस प्रशासन की सांझी टीमें ने और ज्यादा ठोस प्रयास किये जाएँ। घनश्याम थोरी ने आगे बताया कि शराब बनाने के लिए कच्चे माल के तौर पर इस्तेमाल किया जा सकने वाले अल्कोहल /सपिर्ट /केमिकल की सप्लाई को रोकने के लिए विशेष नाके भी लगाए जा रहे हैं। उन्होंने यह भी कहा कि हिस्ट्री सीटर की गतिविधियों पर भी विशेष नज़र रखी जा रही है।
इस अवसर डी.ई.टी.सी. जसकरन सिंह बराड़, सहायक कमिश्नर आबकारी हनुमंत सिंह, रणनीत सिंह, आबकारी अफ़सर हरजोत बेदी आदि मौजूद थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here