भाजपा के स्‍थापना दिवस पर विशाल सौंधी ने कहा कि भाजपा विचारधारा पर आधारित राजनीति करने वाली पार्टी

0
269
भाजपा के स्‍थापना दिवस पर विशाल सौंधी ने कहा कि भाजपा विचारधारा पर आधारित राजनीति करने वाली पार्टी
भाजपा के स्‍थापना दिवस पर विशाल सौंधी ने कहा कि भाजपा विचारधारा पर आधारित राजनीति करने वाली पार्टी

Kapurthala(Gaurav Maria):)भाजपा को विचारधारा पर आधारित राजनीति करने वाली पार्टी बताते हुए भाजपा के सोशल मीडिया एवं आईटी विंग पंजाब के पूर्व प्रदेश सह-इंचार्ज विशाल सौंधी ने कहा कि वैकल्पिक विचार देने के लक्ष्य से गठित हमारी पार्टी सिद्धांतों एवं मूल्यों की राजनीति में विश्वास करती है और पार्टी कार्यकर्ता इस भावना को समझें और निरंतर अध्ययनशील बने रहें।बुधवार को भाजपा के स्थापना दिवस पर विशेष बातचीत करते हुए विशाल सौंधी ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी आज अपना 42 वां स्‍थापना दिवस मना रही है।6 अप्रैल,1980 को पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की अध्‍यक्षता में जनसंघ से निकले लोगों ने बीजेपी बनाई।वाजपेयी और लंबे अरसे तक उनकी परछाई रहे पूर्व उप-प्रधानमंत्री लालकृष्‍ण आडवाणी ने मिलकर पार्टी को 1984 में दो सीट से 1998 में 182 सीटों तक ला खड़ा किया था।हिंदुत्‍व और राम जन्‍मभूमि के एजेंडे पर आगे बढ़ी बीजेपी ने अपने दम पर पूर्ण बहुमत का स्‍वाद चखा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्‍व में।2014 में बीजेपी ने 282 सीटें जीतीं तो 2019 में उसकी सीटों का आंकड़ा 300 के पार चला गया।विशाल सौंधी ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी आज 42 साल की हो गई।6 अप्रैल 1980 को इस पार्टी की शुरुआत हुई और आज यह देश की सत्‍ता पर काबिज है।अंधेरा छंटेगा,सूरज निकलेगा,कमल खिलेगा ये नारा पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने 1980 में दिया था।वाजपेयी का यह सपना पूरा भी हुआ,लेकिन यहां तक पहुंचने के लिए पार्टी को कई उतार-चढ़ाव देखने को मिले।भाजपा की स्‍थापना के बाद जब पार्टी ने पहली बार आमचुनाव में हिस्‍सा लिया,तो उसे मात्र दो सीटें मिलीं।मगर धीरे-धीरे भाजपा का कारवां बढ़ता गया।उन्होंने कहा कि कार्यकर्ताओ की मेहनत एवं लगन के बल पर ही आज विश्व में सबसे अधिक सदस्यों वाली पार्टी भाजपा बन गई है।इसी तरह का उत्साह भविष्य में भी बनाए रखें।विशाल सौंधी ने कहा कि भाजपा परिवार की पार्टी है।इसलिए राष्ट्रीय और प्रदेश स्तर तक के पदाधिकारी होटल और रेस्टोरेंट छोड़कर कार्यकर्ता के घर पहुंचते हैं।जिससे कार्यकर्ताओं से सीधे जुड़ाव हो।घर और परिवार से संपर्क करने पर उनमें भी उत्साह आता है।आसपास के लोगों में भी पार्टी के प्रति रुचि बढ़ती है।भाजपा का संवाद और संपर्क ही सबसे बड़ी ताकत है।उन्होंने कहा कि श्रीकृष्ण की तरह कर्म को प्रधान मानकर सभी कार्य करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here