पंजाबी भाषा के प्रचार-प्रसार के लिए भाषा विभाग विभिन्न गतिविधियाँ चलाएगा: मीत हेयर

0
99
पंजाबी भाषा के प्रचार-प्रसार के लिए भाषा विभाग विभिन्न गतिविधियाँ चलाएगा: मीत हेयर
पंजाबी भाषा के प्रचार-प्रसार के लिए भाषा विभाग विभिन्न गतिविधियाँ चलाएगा: मीत हेयर

Chandigarh(Sourabh Mittal):

पंजाब के उच्च शिक्षा एवं भाषाओं संबंधी मंत्री गुरमीत सिंह मीत हेयर ने भाषा विभाग पंजाब के पटियाला स्थित मुख्य कार्यालय का दौरा करते हुए विभाग की गतिविधियों, योजनाओं और पंजाबी भाषा के प्रचार-प्रसार के लिए किए जा रहे प्रयासों का जायज़ा लिया।  
श्री मीत हेयर ने विभाग की विभिन्न योजनाओं के बारे में जानकारी हासिल की एवं उनमें और अधिक सुधार करने की संभावनाएं तलाशने के लिए विभाग के अधिकारियों को आदेश दिया। उन्होंने कहा कि विभाग द्वारा पंजाबी भाषा के प्रचार-प्रसार के लिए पहल के आधार पर ठोस गतिविधियाँ चलाई जाएँ। उन्होंने विश्वास दिलाया कि सरकार द्वारा जल्द से जल्द बाकी बचे पुरस्कार प्रदान किए जाएंगे।
उच्च शिक्षा एवं भाषाओं संबंधी मंत्री ने कहा कि भाषा विभाग के पास साहित्य का अनमोल खज़़ाना मौजूद है, जिसको अधिक से अधिक पाठकों तक पहुँचाना विभाग का पहला लक्ष्य होना चाहिए, जिससे पंजाबी भाषा के प्रचार-प्रसार के साथ नई पीढ़ी अपनी अनमोल विरासत के साथ जुड़ सके। उन्होंने कहा कि आज की पीढ़ी को साहित्य के साथ जोडक़र बढिय़ा समाज सृजन करने के लिए बड़े स्तर पर सरगर्मियाँ चलाने की जि़म्मेदारी इस विभाग के पास है।
श्री मीत हेयर ने भाषा विभाग के पुस्तकालय का दौरा करने के मौके पर यहाँ संरक्षित प्राचीन हस्तलिखित साहित्यक में गहरी रुचि दिखाई। उन्होंने विभाग द्वारा इस हस्तलिखित साहित्यक को डिजिटल रूप में संरक्षित करने की सराहना की।
इससे पहले विभाग की संयुक्त निदेशक डॉ. वीरपाल कौर ने मंत्री का स्वागत करते हुए उनको विश्वास दिलाया कि वह सरकार के साहित्य और पंजाबी के प्रति लक्ष्यों की पूर्ति के लिए निरंतर कार्यशील रहेंगे। विभाग द्वारा श्री मीत हेयर को पुस्तकें, फुलकारी और एक पौधे से सम्मानित किया गया।
इस अवसर पर विभाग के सहायक निदेशक अशरफ महमूद नन्दन, परवीन कुमार, सुखप्रीत कौर, अमरिन्दर सिंह, सुरिन्दर कौर, डॉ. भीमइन्दर सिंह, जि़ला भाषा अधिकारी चन्दनदीप कौर, अनुसंधान अधिकारी राबिया, दविन्दर कौर, डॉ. सुखदर्शन सिंह चहल, डॉ. संतोख सुक्खी, डॉ. सतपाल सिंह चहल और कर्मचारी उपस्थित थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here