स्वास्थ्य मंत्री डॉ. विजय सिंगला द्वारा नशा मुक्ति केन्द्रों से मिलने वाली दवाओं के दुरुपयोग को सख़्ती से रोकने के निर्देश

0
1000
स्वास्थ्य मंत्री डॉ. विजय सिंगला द्वारा नशा मुक्ति केन्द्रों से मिलने वाली दवाओं के दुरुपयोग को सख़्ती से रोकने के निर्देश
स्वास्थ्य मंत्री डॉ. विजय सिंगला द्वारा नशा मुक्ति केन्द्रों से मिलने वाली दवाओं के दुरुपयोग को सख़्ती से रोकने के निर्देश

Chandigarh(Davinder Garg):

राज्य को नशा मुक्त करने की ओर बड़ी पहल करते हुए स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण और चिकित्सा शिक्षा एवं अनुसंधान मंत्री डॉ. विजय सिंगला ने आज सभी नशा मुक्ति केन्द्रों के प्रबंधकों को सख़्त लहज़े में कहा कि इन केन्द्रों से मिलने वाली नशा मुक्ति की दवाओं के दुरुपयोग पर सख़्ती से रोक लगाई जाए। ऐसा ना करने की सूरत में खामियां पाए जाने वाले केन्द्रों का लाइसेंस रद्द करने के साथ-साथ उनको सख़्त सज़ाएं दिलाने के लिए कार्रवाई की जाएगी।


विभाग के उच्च अधिकारियों के साथ लंबी बैठक के दौरान स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि पुराना समय बीत चुका है जब नशा खत्म करने के लिए केवल बातें ही की जाती थीं। अब जो कहा जाएगा, वह हर हाल में पूरा किया जाएगा। उन्होंने कहा, ‘‘लोगों के स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ करने वाले किसी भी शख्स को बख्शा नहीं जाएगा। पंजाब को नशा मुक्त बनाने के लिए पंजाब सरकार गंभीरता से कदम उठा रही है और नशे के धंधे में प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से लिप्त व्यक्तियों को गंभीर परिणाम भुगतने पड़ेंगे।’’


डॉ. सिंगला ने कहा कि राज्य में 186 प्राईवेट नशा मुक्ति केंद्र चल रहे हैं और उनको कई केन्द्रों में दवाओं के दुरुपयोग की निरंतर खबरें मिल रही हैं। उन्होंने सीधे तौर पर कहा, “इन केन्द्रों में नशा छुड़ाने वाली दवाओं का दुरुपयोग करने वाले बाज़ आएं, नहीं तो स्वास्थ्य विभाग की हिदायतों का उल्लंघन करने वालों के साथ सख़्ती से निपटा जाएगा।’’ इसके साथ-साथ स्वास्थ्य मंत्री ने सभी कैमिस्टों से पूर्ण सहयोग की अपील करते हुए कहा कि वह नशा छुड़ाने वाली दवाएँ लेने वाले व्यक्तियों को केवल डॉक्टर की पर्ची देखने के उपरांत ही दवाएँ दें।
खाने वाली वस्तुओं में मिलावट के रुझान को सख़्ती से लेते हुए स्वास्थ्य मंत्री डॉ. विजय सिंगला ने अधिकारियों को विभाग के फ्लाइंग स्क्वायड एक्टिव करने के निर्देश दिए और कहा कि मिलावटी वस्तुएँ बेचकर लोगों के स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ करने वाले असामाजिक तत्वों को किसी भी कीमत पर बख़्शा ना जाए। उन्होंने कहा कि दूध और दूध से बनी वस्तुएँ जैसे कि घी, पनीर और मिठाईयों आदि में मिलावट करने और फलों को ग़ैर-कुदरती तरीके से पकाने वालों के विरुद्ध सख़्त कार्यवाही अमल में लाई जाए।


इसी तरह स्वास्थ्य मंत्री ने राज्य निवासियों को भी आग्रह किया कि जैसे उनके भरपूर सहयोग से राज्य में आम आदमी पार्टी की सरकार आई है, उसी तरह पंजाब को नशा मुक्त करने के लिए अपना सहयोग दें और जहाँ भी नशा बिकता देखें तो तुरंत प्रशासन के ध्यान में लाएं, जिससे ऐसे असामाजिक तत्वों पर नकेल कसी जा सके।
बैठक के दौरान प्रमुख सचिव श्री राज कमल चौधरी, एम.डी.-एन.एच.एम.-कम-कमिश्नर फूड और ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन श्री कुमार राहुल, निदेशक स्वास्थ्य सेवाएं डॉ. जी.बी. सिंह, संयुक्त आयुक्त ड्रग्ज़ श्री संजीव गर्ग और अन्य अधिकारी उपस्थित थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here