विपक्षी प्रत्याक्षीयों द्वारा चुनाव आयोग के नियमों की उड़ाई जा रही धज्जियां: जगमोहन राजू

0
58
विपक्षी प्रत्याक्षीयों द्वारा चुनाव आयोग के नियमों की उड़ाई जा रही धज्जियां: जगमोहन राजू
विपक्षी प्रत्याक्षीयों द्वारा चुनाव आयोग के नियमों की उड़ाई जा रही धज्जियां: जगमोहन राजू

Amritsar(Rajeev Sharma):

पूर्वी विधानसभा क्षेत्र के भाजपा प्रत्याक्षी जगमोहन सिंह राजू द्वारा विपक्षी पार्टियों के प्रत्याक्षीयों द्वारा चुनाव आयोग द्वारा जारी किए गए दिशा-निर्देशों की सरेआम धज्जियां उड़ाने का आरोप लगाया है। भाजपा अमृतसर के जिला अध्यक्ष सुरेश महाजन की अध्यक्षता में आज जिला भाजपा कार्यालय शहीद हरबंस लाल खन्ना स्मारक में आयोजित पत्रकारवार्ता के दौरान संवाददाताओं से बातचीत करते हुए जगमोहन सिंह ने कहा कि उनके द्वारा इस मामले में चुनाव आयोग को इसकी शिकायत दर्ज करवाई है। जगमोहन राजू द्वारा की गई पत्रकारवार्ता के दौरान मंच पर उनके सांसद श्वेत मलिक, जम्मू-कश्मीर के पूर्व राजस्व मंत्री अजय नंदा, प्रदेश सचिव राजेश हनी, प्रदेश प्रवक्ता सुरिंदर कंवल, प्रदेश ओबीसी मोर्चा महामंत्री कंवरबीर सिंह मंजिल, जिला उपाध्यक्ष हरविंदर सिंह संधू आदि उपस्थित थे।

            जगमोहन सिंह ने कहा कि उनकी विधानसभा में विपक्षी दलों के उम्मीदवारों द्वारा लोगों को उनके हक में वोट करने के लिए धमकाया जा रहा है। इतना ही पूर्वी विधानसभा में प्रचार कर मेरे पारिवारिक सदस्यों, दोस्तों, भाजपा का प्रचार कर रही महिला कार्यकर्ताओं को रास्ते में रोक कर उन्हें प्रचार ना करने के लिए कह कर अंजाम भुगतने की धमकियां दी जा रही हैं। राजू ने कहा कि पंजाब में पहले ही कानून-व्यवस्था की धज्जियां उड़ी हुई हैं और इसका प्रत्यक्ष प्रमाण पूर्वी विधानसभा में सरेआम देखने को मिल रहा है। उन्होंने कहा कि विपक्षी दलों के प्रत्याक्षीयों द्वारा चुनाव आयोग द्वारा तय किए गए खर्च सीमा से अधिक खर्च किया जा रहा है और इसका प्रमाण है वेरका, वल्ला, एकता नगर, जवाहर नगर, मकबूल पुरा, कलर व मुधल में जगह-जगह उनके द्वारा लगाए गए बड़े-बड़े फ्लैक्स बोर्ड, होर्डिंग्स व अन्य चुनाव सामग्री है। राजू ने कहा कि उनके द्वारा इस संबंध में चुनाव आयोग को शिकायत दर्ज करवाई है।

            जगमोहन सिंह ने चुनाव आयोग से मांग की कि उपरोक्त सभी इलाकों की वीडियोग्राफी करवाई जाए और यहाँ पर अर्ध-सैनिक बल तैनात कर इस संबंधी खर्च की उच्चाधिकारी तैनात कर इसकी जांच करवाई जाए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here