इस साल 54800 हेक्टेयर क्षेत्रफल पर की जाएगी धान की सीधी बिजाई:डिप्टी कमिश्नर

0
192
इस साल 54800 हेक्टेयर क्षेत्रफल पर की जाएगी धान की सीधी बिजाई:डिप्टी कमिश्नर
इस साल 54800 हेक्टेयर क्षेत्रफल पर की जाएगी धान की सीधी बिजाई:डिप्टी कमिश्नर

Jalandhar(S.K Verma):

डिप्टी कमिश्नर घनश्याम थोरी ने बताया कि इस साल लगभग 54800 हेक्टेयर क्षेत्रफल पर धान की सीधी बिजाई की जाएगी और इस लक्ष्य की प्राप्ति के लिए ज़िला, ब्लाक और गाँव स्तर पर 103 टीमों का गठन किया गया है, जिसमें अलग -अलग विभागों के अधिकारी /कर्मचारियों को शामिल किया गया है। ज़िला प्रशासकीय कंपलैक्स में धान की सीधी बिजाई को उत्साहित करने के लिए डिप्टी कमिश्नर ने किसानों और अलग -अलग खेती अधारित विभागों के साथ बैठक दौरान बताया कि बताया पंजाब सरकार की तरफ से बिना खेत जोते धान की सीधी बिजाई करने वाले किसान को प्रति एकड़ 1500 रुपए की वित्तीय सहायता दी जाएगी।
डिप्टी कमिश्नर , जिनके साथ अतिरिक्त डिप्टी कमिश्नर (विकास) वरिन्दर पाल सिंह बाजवा भी मौजूद थे, ने बताया कि किसानों को धान की सीधी बिजाई के लिए जागरूक और प्रेरित करने के लिए ज़िला, ब्लाक और गाँव स्तर पर अलग -अलग विभागों कृषि, बाग़बानी, भूमि पानी और मंडी बोर्ड को शामिल करते 103 टीमों का गठन किया गया है। उन्होंने बताया कि ज़िले भर में बनाई गई अलग -अलग टीमों को प्रति टीम तकरीबन 10 गाँव सौंपे गए है। यह टीमें गाँव -गाँव जा कर गुरुद्वारा साहिब से अनाऊंसमैंट करवाते हुए किसानों को धान की सीधी बिजाई सम्बन्धित प्रेरित करेगी। उन्होंने सभी विभागों को धरती निचले पानी को बचाने के लिए धान की सीधी बिजाई करने के लिए मिशन मोड में काम करने के लिए प्रेरित किया।अतिरिक्त डिप्टी कमिश्नर ने बताया कि विशेषज्ञों अनुसार धान की सीधी बिजाई करने के साथ 30 से 35 प्रतिशत पानी की बचत होती है और किसान का जमीन न जोतने कारण पनीरी लगाने का ख़र्च भी बचता है। इसके इलावा भूजल संरक्षण होता है, साथ ही जमीन का पानी सोखने का सामर्थ्य बढ़ता है।मुख्य कृषि अधिकारी डा. सुरिन्दर सिंह ने इस मौके धान की सीधी बिजाई में कामयाब हुए किसानों के अनुभव सम्बन्धित विशेष तौर पर छपवाए गए पैंफलैट्ट के बारे भी किसानों के साथ जानकारी सांझी। इस दौरान धान की सीधी बिजाई सम्बन्धित कृषि अधिकारी जालंधर डा. नरेश कुमार गुलाटी की तरफ से पावर प्वाईंट प्रैजैंटेशन पेश की गई, जिसमें किसानों और अलग -अलग विभागों के प्रतिनिधियों को धान की सीधी बिजाई के बारे में जानकारी दी गई। इसके इलावा ज़िले के प्रसिद्ध किसान हरिन्दर सिंह ढींडसा की तरफ से धान की सीधी बिजाई के बारे अनुभव को दिखाती प्रैजैंटेशन पेश की गई। किसानों ने अपने अनुभव सांझा करते बताया कि धान की सीधी बिजाई के लिए 8से 10 किलो बीज प्रति एकड़ ईस्तेमाल करते हुए थोड़ा समय लेने वाली किस्मों की खेती करनी ज़्यादा लाभदायक है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here