भड़काऊ भाषण मामले में मुख्य चुनाव आयुक्त से अश्वनी शर्मा के नेतृत्व में मिला भाजपा शिष्टमंडल

0
32
बजट लोगों के अनुकूल, प्रगतिशील और मुख्य रूप से जनता के उत्थान पर केंद्रित: अश्विनी शर्मा
बजट लोगों के अनुकूल, प्रगतिशील और मुख्य रूप से जनता के उत्थान पर केंद्रित: अश्विनी शर्मा

Chandigarh(Rajeev Sharma):

पंजाब कांग्रेस के प्रधान नवजोत सिद्धू के सलाहाकार पूर्व डीजीपी मोहम्मद मुस्तफा द्वारा हिंदुओं के खिलाफ की गई आपत्तिजनक टिप्पणी के मामले में पंजाब भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष अश्वनी शर्मा के नेतृत्व में सोमवार को भाजपा शिष्टमंडल ने मुख्य चुनाव आयुक्त से दिल्ली में मुलाकात की। इस दौरान भाजपा ने मुख्य चुनाव आयुक्त को अवगत कराया कि जलसे में सैकड़ों लोगों के समक्ष भड़काऊ भाषण देकर मुस्तफा ने जिला प्रशासन और जिला पुलिस को धमकी दी थी कि मेरे जलसे के बराबर में हिंदुओं को इजाजत दी गई तो मैं ऐसे हालात पैदा कर दूंगा कि हालात संभालने मुश्किल हो जाएंगे। मुख्य चुनाव आयुक्त से मुलाकात के दौरान भाजपा शिष्टमंडल में केन्द्रीय जल-शक्ति मंत्री व पंजाब चुनाव प्रभारी गजेंद्र सिंह शेखावत, केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी, भाजपा नेता दुष्यंत गौतम, केन्द्रीय मंत्री सोम प्रकाश, ओम पाठक व अन्य नेता उपस्थित रहे।

 प्रदेश अध्यक्ष अश्वनी शर्मा ने मुख्य चुनाव अधिकारी से कहा कि भड़काऊ भाषण देने वाले पूर्व डीजीपी पर चार दिन बाद भी कोई ठोस कार्रवाई नहीं हुई है। शर्मा ने मुख्य चुनाव आयोग से मांग की कि ऐसे आरोपी को तुरंत गिरफ्तार किया जाए। अश्वनी शर्मा ने आरोप लगाया कि हिंदू समुदाय के खिलाफ यह अब तक का सबसे गंभीर घृणास्पद भाषण है, जो मतदाताओं को धार्मिक आधार पर विभाजित करने का प्रयास करता है।

भाजपा शिष्टमंडल ने मुख्य चुनाव अधिकारी को सौंपे गए शिकायत पत्र में यह भी कहा है कि मुस्तफा द्वारा आपत्तिजनक भाषण देने के मामले के चार दिन बाद भी कांग्रेस पार्टी के नेतृत्व ने न तो इसकी निंदा की है और न ही नफरत भरे भाषण देने वाले को फटकार लगाई है। इससे साफ पता चलता है कि मोहम्मद मुस्तफा के कृत्यों के पीछे उनकी पार्टी का भी हाथ हो सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here