Category: HIMACHAL PRADESH

इन्वेस्टर मीट के वहाने

Shimla- : प्रदेश में हो रही गलोबल इन्वेस्टर मीट से सरकार को पूरी उम्मीद है कि निवेशक हिमाचल का रुख करेंगे । लेकिन एक कमी भी जरूर खलेगी ,वह है हिमाचल के दो बड़े नेताओं को इस इन्वेस्टर मीट से दूर रखना । आखिर ऐसा क्यों है कि प्रदेश सरकार

हार दिखी तो धुमल याद आये

जितेन ठाकुर – शिमला हिमाचल प्रदेश में भाजपा की जयराम सरकार को बने हुए लगभग दो वर्ष पूरे होने को हैं | मगर इस अंतराल में सरकार ने नित नए प्रयोग किये, लेकिन कहीं न कहीं न तो प्रयोग सिरे चढ़े न जनता में वह रुतवा बन सका | सरकार

नवल चौहान बने नॉर्थ इंडिया पत्रकार ऐसोसिऐशन बंजार के प्रधान

– बालकृष्ण शर्मा को सौंपी राज्य विशेष पीआरओ की जिम्मेवारी -राज्य अध्यक्ष धनेश गौतम ने की घोषणा, शीघ्र होगी अन्य नियुक्तियां कुल्लू, 23 अगस्त। नॉर्थ इंडिया पत्रकार ऐसोसिऐशन हिमाचल प्रदेश लगातार अपनी कार्यकारिणी के विस्तार में जुटा है। इसी कड़ी में कुल्लू जिला के बंजार उपमंडल से नवल चौहान को

हिमाचल में अभी भी 588 सड़कें बाधित, 1000 गाड़ियां फंसीं

हिमाचल प्रदेश में मनाली-रोहतांग-लेह मार्ग पर पिछले तीन दिनों से हो रहे भूस्खलन से बार-बार यातायात बाधित हो रहा है। यहां सेना के मनाली से लेह और लेह से मनाली आ रहे काफिले के 300 ट्रकों समेत लगभग 1000 गाड़ियां फंसी हुई हैं। गुरुवार को भी दिनभर मार्ग जाम के

मानसून सत्र में विधायक एक दिन में पांच सवाल ही पूछ सकेंगे

हिमाचल प्रदेश विधानसभा के मानसून सत्र के दौरान प्रश्नकाल में विधायकों के लिए नया नियम लागु किया गया है। एक दिन में विधायक केवल पांच प्रश्न ही पूछ सकेंगे ताकि सबको सवाल पूछने का मौका मिल सके। एक सदस्य एक दिन में दो तारांकित और तीन अतारांकित प्रश्नों से ज्यादा

कुछ कर गुजरने की चाह ने दिखा दिया जमाने को रास्ता

हिमाचल प्रदेश के जितेन ठाकुर और उत्तराखंड की दिव्या रावत ने कुछ ऐसा कर दिखाया कि वरवस ही तारीफ के अक्षर फुट पड़ते हैं । हिमाचल प्रदेश के बिलासपुर जिले के जितेन ठाकुर ने अपनी निजी भूमि पर चन्दन का विशाल वन लगा कर युवाओं को आमदनी का बेहतर बिकल्प

जयराम ठाकुर की सूझबूझ से एकजुट होगी भाजपा

विधानसभा उपचुनाव से पहले कांगड़ा में मचे सियासी घमासान की ज्वाला शांत करने के लिए धवाला को 15 दिन तक चुप रहने को कहा गया है। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर के आश्वासन के बाद धवाला संबंधित मामले पर कुछ भी टिप्पणी करने से तो बचते रहे, लेकिन उन्होंने यह स्पष्ट कर

गायों पर राजनीती या सरकार की नियति

हिमाचल प्रदेश जैसे पहाड़ी और कम आवादी बाले राज्य में भी सड़कों पर हजारों बेसहारा गायें घूम रही हैं यह दुर्भाग्य नहीं है बल्कि सरकारों की नाकामयाबी का सबूत है | प्रदेश में बहुतेरे ऐसे साधन हैं जिनके जरिये इन गायों को स्थाई रूप से बसाया जा सकता है |

कालका-शिमला ट्रैक पर मलबा गिरने से फंसीं दो ट्रेनें

कालका-शिमला हेरिटेज रेल ट्रैक टकसाल के समीप बुधवार दोपहर ढाई बजे मलबा गिरने से छह घंटे तक बंद रहा। शिमला से कालका जा रही डाउन मिक्स के यात्रियों को परवाणू से दूसरे वाहनों से कालका तक पहुंचाया गया जबकि कालका से शिमला आ रही हिमालयन क्वीन भी के यात्रियों को

मंडी से जीतने बाला सत्ता में ही रहता है

shimla-: मंडी जहां 67 साल से चला आ रहा रोचक क्रम देश के क्षेत्रफल के हिसाब से सबसे बड़े संसदीय क्षेत्र ,मंडी संसदीय संसदीय क्षेत्र में लोकसभा के चुनावों से जुड़ा इतिहास भी रोचक है। खास बात है कि इस सीट से जीतने वाला सांसद कभी भी विपक्ष में नहीं

थम सकता है सुरेश चंदेल का राजनितिक सफर

Shimla- Jiten thakur हिमाचल कांग्रेस में भारी विरोध के चलते भाजपा से कांग्रेस में विलय कर गए सुरेश चंदेल का टिकट रुक गया है | सुरेश चंदेल हमीरपुर संसदीय क्षेत्र से सांसद रहे हैं ऐसे में कण अब भाजपा में दाल न गलती देख उन्होंने कांग्रेस का रुख किया था

हिमाचल सरकार की शिक्षा नीति से हारेंगे चुनाव

jiten thakur- Shimla हिमाचल प्रदेश में बेलगाम निजी शिक्षा संस्थान सबके लिए चिंता का विषय हैं ,सिवाय सरकार के । सरकार चाहे कोई भी हो इन संस्थानों से मिलने बाला नजराना इतना बड़ा होता है कि हर सियासतदान इनके समक्ष घुटने तक ही देता है । हर गाँव शहर शिक्षा