लोकसभा परिणाम आते ही कैप्टन सरकार चारो खाने चित हो जाएगी: सुखबीर सिंह बादल

-कहा कि टैक्स बढ़ा दिए तथा सहुलतें कम कर दी ,अभी भी वो खाली खजाने का बहाना बना रहे हैं


रायकोट/जगराओ/गिल,( शुक्ला)-अमरिंदर के नेतृत्व वाली कांग्रेस सरकार पर तीखे हमले जारी रखते हुए शिरोमणी अकाली दल के अध्यक्ष सरदार सुखबीर सिंह बादल ने आज कहा कि लोकसभा चुनावों के परिणाम आते ही पंजाब में कांग्रेस की सरकार चारो खाने चित हो जाएगी। उन्होने कहा कि आगामी चुनावों में पंजाब में कांग्रेस का पूरी तरह सफाया होने जा रहा है। लोकसभा चुनावों में अपमानजनक हार के बाद कांग्रेस का सरकार में बने रहना नैतिक तथा राजनैतिक रूप से मुश्किल हो जाएगा। उन्होने कहा कि चुनाव परिणामों के बाद सरकार की तबदीली निश्चित है। सरदार बादल ने यह टिप्पणियां लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र फतेहगढ़ साहिब से अकाली-भाजपा उम्मीदवार सरदार दरबारा सिंह गुरु के हक में लुधियाना में अलग अलग रैलियों को संबोधित करते हुए की। उन्होने कहा कि अमरिंदर सिंह सरकार सभी मोर्चों पर बुरी तरह विफल हो चुकी है इसने विधानसभा चुनाव के अवसर पर श्री गुरु गोबिंद सिंह के चरणों की झूठी सौगंध खाकर पंजाब के लोगों को ठगा है। सरदार बादल ने कहा कि कांग्रेस सरकार की हर समस्या के प्रति लापरवाही वाले व्यवहार के कारण समाज का हर वर्ग दुख भोग रहा है। उन्होने कहा कि मुख्यमंत्री की मानसिकता एक निर्वाचित नेता की नही बल्कि एक महाराजा जैसी है। वह आज भी मानसिक तौर पर 1947 से पहले वाली सदी मे रह रहा है। अकाली दल अध्यक्ष ने कहा कि अकाली-भाजपा द्वारा शुरू की सभी  लोक हितैशी स्कीमें चाहे वह शगुन स्कीम हो, दलितों के वजीफे, पिछड़े वर्ग के लिए 200यूनिट मुफत बिजली, स्कूली विद्यार्थियों को मुफत वर्दियां यां छात्राओं को मुफत साईकिल देने हों, मौजुदा सरकार द्वारा सभी सहुलतें बंद की जा चुकी हैं। उन्होने कहा कि इस सरकार ने किसानों से मुकम्मल कर्जा माफी का वादा करके युवाओं से घर घर नौकरी, बेरोजगारी भत्ता व स्मार्ट फोन के वायदे करके तथा दलितों से शगुन स्कीम की राशि 15 हजार से 51 हजार करने व 200 यूनिट मुफत बिजली देने के वादे करके ठगा है।उन्होने कहा कि राज्य में किसानों की आत्महत्याओं की घटनाएं बढ़ रही हैं। कड़ाके की सर्दी में गरीब दलित विद्यार्थियों को वर्दियां नही दी गई हैं। ठेके पर रखे 40 हजार रूपए लेने वाले अध्यापकों को 15 हजार लेने यां घर बैठने के लिए कह दिया है। कैप्टन अमरिंदर सिंह के मोती महल के आगे अपनी मांगों के लिए प्रदर्शन कर रहे अध्यापकों पर बेरहमी से लाठीचार्ज करवाया गया। उन्होने कहा कि गरीब मेधावी बच्चों के लिए खोले मेरिटोरियस स्कूल भी बंद कर दिए गए हैं जबकि आधे से ज्यादा कांग्रेसी मंत्रियों के बच्चे विदेशों में पढ़ते हैं। दूसरी तरफ राज्य में गरीब बच्चों को अच्छी शिक्षा प्राप्त करने का भी अवसर नही मिल रहा है, क्योंकि 700 के करीब सरकारी स्कूलों को बंद कर दिया गया है। सरदार बादल ने कहा कि कृषि प्रधान राज्य होने के नाते यह पंजाब की बदकिस्मती है कि किसान कर्ज के कारण आत्महत्या कर रहे हैं।सरदार बादल ने कहा कि कांग्रेस सरकार का खाली खजाने का बहाना बकवास है और अपनेे बुरी निकम्मेपन को छुपाने का ढं़ग है। उन्होने कहा कि हमने खजाना खाली होने का कभी भी बहाना नही बनाया था। उन्होने कहा कि हम किसानों, दलितों तथा कर्मचारियों की सहायता के लिए हमेशा तैयार रहते थे तथा हमेशा राज्य के सर्वांगीण विकास के लिए प्रयासरत रहते थे। सरदार बादल ने कहा कि पिछले दो सालों में कोई भी बड़ा प्रोजेक्ट राज्य में नही आया है। विकास कार्य बुरी तरह ठप हैं, सरकारी विभागों में खाली पद भरे नही जा रहे हैं क्योंकि कांग्रेस सरकार के घर घर नौकरी देने के वादे के बावजूद भर्ती पर पाबंदी लगा रखी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *