मार्च से हो रहा है भारतीय नववर्ष आगमन

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  

(जितेन ठाकुर )

18 मार्च 2018 से भारतीय नव वर्ष बिक्रमी संवत्त 2075 का आगमन हो रहा है | हालांकि इसे हिन्दू नव वर्ष के रूप में जाना जाता है | यहां यह जिक्र करना उचित रहेगा की हिन्दू को धर्म नहीं है बल्कि एक सभ्यता है जो हिमालय और सिंधु नदी के आस पास पनपी थी | हालांकि यही सभ्यता सबसे प्राचीन मानी गई है |

चैत्र प्रतिपदा के इस दिन बिक्रमी संवत्त 2075 की शुरुआत हो रही है | माना जाता है कि इस दिन युगों में सर्वप्रथम सत्ययुग भी प्रारम्भ हुआ था | पितामह व्रम्हा जी ने इसी दिन सृष्टि का निर्माण किया था |
https://www.youtube.com/watch?v=l51MOgSROXU

हालांकि बहुत से लोग जनवरी महीने से ही नव वर्ष शुरू होने को मानते हैं जबकि ऐसा नहीं है | नव वर्ष मार्च महीने में आने बाली चैत्र प्रतिपदा से ही शुरू माना जाता रहा है | भारत में आज भी सरकारी कामों में इसी दिन से नव वर्ष की शुरुआत होती है, और बजट का समय भी इसी अनुसार रखा जाता है | जहां जनवरी महीने में आने बाले अमेरिकी नव वर्ष को हर तरफ बर्फ , ठण्ड और पतझड़ का आलम होता है, वहीँ भारतीय नव वर्ष बिक्रमी संवत्त के आगमन पर हर तरफ बसंत की बहार होती है और फूल खिले होते हैं | हिमालय क्षेत्र में इस दिन मंदिरों में विशेष रूप से रौनक होती है क्यूंकि माना जाता है कि उनके आराधय देव इसी दिन स्वर्ग से लौटकर धरती पर आते हैं |
https://www.youtube.com/watch?v=4koenOZUtLU
https://www.youtube.com/watch?v=UUyNEWaiMP8


Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •