जनगणना 2021 की तैयारियाँ शुरू, दो चरणों में होगी गिनती

Spread the love
Logo

-17 फरवरी तक गणनाकार और सुपरवाइजर लगाए जाएंः डिप्टी कमिश्नर
 -आंकड़े मोबाइल ऐप्लीकेशन द्वारा और दस्ती एकत्र किए जाएंगे

लुधियाना, ( हरीश कुमार ) – हर 10 साल बाद देश में होने वाली आम जनगणना की तैयारियाँ शुरू हो गई हैं। यह जनगणना दो चरणों में मुकम्मल की जायेगी। जनगणना की तैयारियों संबंधी जिला स्तरीय बैठक आज डिप्टी कमिश्नर श्री प्रदीप कुमार अग्रवाल की अध्यक्षता में हुई, जिसमें श्री सागर सेतिया एस. डी. एम. पायल, श्रीमती गीतिका एस. डी. एम. समराला, श्री हिमांशू गुप्ता एस. डी. एम. रायकोट, जिला माल अफसर स. जोगिन्द्र सिंह, सम्बन्धित क्षेत्रों के तहसीलदार और कार्यकारी अफसरों के अलावा अन्य अधिकारी और कर्मचारी उपस्थित रहेे। इस संबंधी जानकारी देते हुए श्री प्रदीप कुमार अग्रवाल ने बताया कि यह जनगणना केंद्रीय ग्रह मंत्रालय अधीन काम करते रजिस्ट्रार जनरल एंड सैंसज कमिश्नर की तरफ से करवाई जायेगी, जो दो चरणों में मुकम्मल की जानी है। इसका पहला चरण मई -जून 2020 (संभावित तारीख 15 मई से 29 जून) महीने करवाया जाएगा, जिसमें घरों की संख्या और सूचीबद्ध करने के साथ-साथ नेशनल पाॅपूलेशन रजिस्टर को अपडेट किया जायेगा। दूसरा दौर 9 फरवरी 2021 से 28 फरवरी, 2021 दौरान होगा, जिसमें जनगणना (लोगों की संख्या) की जाएगी। इस उपरांत 1 मार्च से 5 मार्च, 2021 तक संख्या की समीक्षा होगी। श्री अग्रवाल ने बताया कि जनगणना सम्बन्धित पंजाब सरकार की तरफ से प्रशासनिक सीमाबंदियों के साथ छेड़छाड़ पर रोक लगा दी गई है जिससे किसी भी अधिकारित क्षेत्र बारे असमंजस वाली स्थिति ना पैदा हो सके। संख्या और सुपरवीजन का काम मुख्य तौर पर अध्यापकों (प्राथमिक और सेकंडरी), विभिन्न विभाग के क्लर्क और अन्य दर्जा प्राप्त कर्मचारियों की तरफ से किया जायेगा। यदि जरूरत पड़ी तो अन्य संस्थानों या पक्षों को भी इस काम के लिए लगाया जा सकता है। श्री अग्रवाल ने निर्देश दिए हैं कि 17 फरवरी तक सभी गणनाकारों और सुपरवाइजरों की सूचियां डायरैक्टर संख्या (आपरेशन) विभाग को भेज दी जाएं। गणनाकारों और सुपरवाइजरों की संख्या साल 2011 की संख्या से कम से कम 30 प्रतिशत ज्यादा होनी चाहिए। श्री अग्रवाल ने स्पष्ट किया कि जनगणना के काम में यदि कोई विभाग सहयोग नहीं देता तो उस खिलाफ विभागीय कार्यवाही की जायेगी। गणनाकारों और सुपरवाईजरों को डेटा लेने, पुष्टी करने (वैलीडेशन), रिपोर्ट तैयार करने आदि के लिए बनाए मोबाइल ऐप्लीकेशन और डेटा एकत्रित करने का प्रशिक्षण जल्द दे दिया जाएगा। आंकड़ों से सम्बन्धित दस्ती रिकार्ड भी तैयार किया जायेगा। गणनाकारों  द्वारा एकत्रित किए डाटे को सुपरवाईजरों की तरफ से सम्बन्धित घरों में जा कर पुष्टि करने उपरांत तस्दीक किया जायेगा। डाटा एकत्र करने और बाकी कार्यवाही करने के बाद जनगणना के आंकड़ात्मक नतीजे जारी किए जाएंगे। उन्होंने आम लोगों और अलग -अलग संस्थानों के साथ जुड़े लोगों को इस गणना में सहयोग देने की अपील की है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *